फुटबॉल वीडियो

Publishing time:2021-10-20 23:36:15

गोल्डन बॉय बुक क्रिकेट फुटबॉल वीडियो betway जमा समय,fun88 कोई जमा बोनस नहीं,lovebet 40/1 चेल्सी,lovebet होल्डिंग्स,lovebet अधिग्रहण,२०० बेस्ट ऑफ़ फाइव नेफ्रोलॉजी,बैकारेट हमेशा सट्टेबाजी का तरीका जीतता है,बैकारेट ऑनलाइन कैसीनो,सबसे अच्छा लाइव रूले ब्रिटेन,मेरे क्रिकेट टिकट बुक करो,कैसीनो किंगडम लॉगिन,शतरंज एक गति,क्रिकेट बुक डाइमॉक्स,क्रिकेट एक्स चेंज,यूरोपीय सट्टेबाजी साइटें,फुटबॉल सट्टेबाजी खाता,जी क्रिकेटर का नाम,खुश किसान फ़्रेडोनिया ny,मैं शतरंज APK,जे स्पोर्ट्स 3,ला क्रिकेट फुल फॉर्म,लाइव कैसीनो स्वागत बोनस कोई जमा नहीं,लॉटरी कैसे खेले,लूडो यार्स डाउनलोड,ऑनलाइन नकद शतरंज,ऑनलाइन गेम प्रश्न उत्तर,ऑनलाइन स्लॉट इंडियाना,बिंदु मूल्य रम्मी 500,पोकर गोदाम,रूले भाग्यशाली संख्या,रम्मी सर्कल मोबाइल नंबर,रम्मीकल्चर ज़िप फ़ाइल डाउनलोड,स्लॉट युग,खेल ओ राम,तीन पत्ती आसान,इंटरनेट पर सबसे बड़ा मनोरंजन शहर,वर्चुअल क्रिकेट ऐप,वाइल्डज़ कैसीनो बोनस कोड,football पुर्तगाल,करीना जिंदाबाद,क्रिकेट या खेळाची माहिती मराठी,चोंगकिंग टाइम्स लॉटरी,परिवार क्यों,बरसात भजन,रमी बाजी,स्टेटस दिखाइए, .भारत ने किया आगाह, तेल की ऊंची कीमतों का वैश्विक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर होगा

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

भारत ने किया आगाह, तेल की ऊंची कीमतों का वैश्विक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर होगा

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) दुनिया के तीसरे सबसे बड़े ऊर्जा उपभोक्ता देश भारत ने बुधवार को आगाह करते हुए कहा कि तेल की ऊंची कीमतें शुरुआती और नाजुक वैश्विक आर्थिक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर डालेंगी। भारत ने सऊदी अरब और ओपेक (तेल निर्यातक देशों के संगठन) के अन्य सदस्य देशों से सस्ती और भरोसेमंद आपूर्ति की दिशा में काम करने को कहा।

साथ ही भारत ने दीर्घकालीन आपूर्ति अनुबंधों का विचार रखा। इससे भरोसेमंद और स्थिर कीमत व्यवस्था सुनिश्चित हो सकेगी।

पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सेरा वीक के ‘इंडिया एनर्जी फोरम’ में कहा कि तेल की मांग और ओपेक और उससे जुड़े सहयोगी देशों (ओपेक प्लस) जैसे उत्पादकों की तरफ से होने वाली आपूर्ति में अंतर है। ऐसे में उत्पादन बढ़ाये जाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, ‘‘दुनिया को कोविड-पूर्व स्तर पर आने के लिये भरोसेमंद, स्थिर और सस्ती कीमत की जरूरत है।’’

पेट्रोलियम सचिव तरुण कपूर ने कहा कि भारत जैसे आयातक देश फिलहाल सऊदी अरब और इराक जैसे ओपेक देशों से तेल खरीदने को लेकर अनुबंध करते हैं। इन अनुबंधों से केवल मात्रा को लेकर निश्चितता रहती है। जबकि कीमत डिलिवरी के समय अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रचलित मूल्य के आधार पर तय होती है।

उन्होंने कहा, ‘‘गैस के मामले में अनुबंध 25 साल तक की अवधि के लिये होता है और कीमत का निर्धारण तय मानकों पर होता है। तेल के लिये भी दीर्घकालीन अनुबंध के साथ कीमत को लेकर मानक होने चाहिए। यह मानक कोयला या फिर गैस जैसे वैकल्पिक ईंधन की कीमतों के आधार पर हो सकता है।’’

सचिव ने कहा कि ओपेक और सहयोगी देशों को इस मौके पर आगे आना चाहिए और ग्राहकों की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिये उत्पादन बढ़ाना चाहिए।

इस साल मई से कीमतों में वृद्धि के साथ देशभर में पेट्रोल और डीजल के दाम रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गये हैं।

पुरी ने कहा, ‘‘अगर ऊर्जा की कीमतें ऊंची बनी रहीं, तो वैश्विक आर्थिक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। अंतरराष्ट्रीय कीमतों में उतार-चढ़ाव से न केवल भारत बल्कि औद्योगिक देश भी प्रभावित होंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह सबके हित में है कि हम वैश्विक आर्थिक पुनरुद्धार को बनाये रखें। इसीलिए स्थिर और सस्ती ऊर्जा उत्पादक और आयातक देशों दोनों के हित में है।’’

मंत्री ने कहा कि ऊर्जा विनाशकारी महामारी के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार के लिये महत्वपूर्ण है। तेल की ऊंची कीमतें आर्थिक पुनरुद्धार की गति को धीमा करेंगी। ‘‘मुझे भरोसा है कि ओपेक और सहयोगी देश उपभोक्ता देशों की भावना का ध्यान रखेंगे।’’

इससे पहले, जापान के प्रधानमंत्री फूमियो किशिदा ने सोमवार को कहा था कि हाल में कीमतों में तेजी को देखते हुए तेल उत्पादक देशों को उत्पादन बढ़ाने के लिये प्रेरित होना चाहिए।

पुरी ने कहा, ‘‘अगर ऊर्जा की कीमत ऊंची बनी रहती है, वैश्विक आर्थिक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर पड़ेगा।’’

पिछले साल अप्रैल में अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल का दाम टूटकर 19 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया था। इसका कारण कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये विभिन्न देशों में लगाया गया ‘लॉकडाउन’ था। इससे मांग काफी निचले स्तर पर पहुंच गयी थी। इस साल टीकाकरण के साथ वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था में गतिविधियां तेज होने से मांग बढ़ी।

इससे अंतरराष्ट्रीय मानक ब्रेंट क्रूड अब 84 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया है।

उन्होंने कहा कि इससे ईंधन महंगा हुआ है और मुद्रास्फीति की आशंका बढ़ी है।

पुरी ने कहा कि भारत का तेल आयात बिल 2020 में जून तिमाही 8.8 अरब डॉलर था। यह वैश्विक स्तर पर तेल के दाम में तेजी के कारण अब 24 अरब डॉलर पहुंच गया है।

उन्होंने कहा, ‘‘भारत का यह मानना है कि ऊर्जा की पहुंच भरोसेमंद, किफायती और टिकाऊ होनी चाहिए।’’ विनाशकारी महामारी के बाद आर्थिक पुनरुद्धार अभी नाजुक स्थिति में है तथा ऐसे में तेल के दाम में तेजी से स्थिति और बिगड़ सकती है।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read
भारत ने किया आगाह, तेल की ऊंची कीमतों का वैश्विक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर होगा

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय मंत्री आर के सिंह ने बुधवार को कहा कि अंतररराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) को बढ़ावा देने के लिये दुनिया के देशों को साथ आना चाहिए। इस गठबंधन में वैश्विक स्तर पर 80 करोड़ लोगों को ऊर्जा उपलब्ध कराने की संभावना है।आईएसए की आमसभा को संबोधित करते हुए बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री ने कहा, ‘‘ऊर्जा बदलाव की तुलना में सभी तक बिजली की पहुंच की समस्या का समाधान ज्यादा महत्वपूर्ण है। बिजली से वंचित लोगों के लिये ऊर्जा में बदलाव का कोई मतलब नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आज दुनियाभर में 80 करोड़ लोगोंक्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) उपभोक्ता इलेक्ट्रिकल सामान कंपनी हैवल्स इंडिया लि. का चालू वित्त वर्ष की सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 7.34 प्रतिशत घटकर 302.39 करोड़ रुपये रह गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 326.36 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। तिमाही के दौरान कंपनी की परिचालन आय 31.65 प्रतिशत बढ़कर 3,238.04 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान तिमाही में 2,459.49 करोड़ रुपये थी। हैवल्स इंडिया के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अनिल राय गुप्ता ने नतीजों पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘‘विभिन्न कारोबार क्षेत्र मेंअपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.भारत ने किया आगाह, तेल की ऊंची कीमतों का वैश्विक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर होगा

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


lovebet टिकट टेलीग्राम
ड्राफ्टकिंग्स स्पोर्ट्सबुक xfl
फुटबॉल सस्केचेवान लॉटरी
रम्मीकल्चर तस्वीरें
ग्लोबल गेमिंग इनसाइक्लोपीडिया
ला लीगा फुटबॉल फोरम
कैसे डाउनलोड करते है
दिन क्रिकेट मैच
यूईएफए चैंपियंस लीग अंतिम बार
एचडी शतरंज वॉलपेपर
आर पोकर पैकेज
फ़ुटबॉल प्लेटफ़ॉर्म URL
बकरा इन इंग्लिश
पोकर गुरु
लाइव अमेरिकन रूले
री लॉटरी ऐप
लाइव फ़ुटबॉल का नवीनतम संस्करण
बच्चों के लिए खेल किताबें
खेल एनबीए
लॉटरी हीरो ऐप डाउनलोड
fun88 जमा
आर कैसीनो रोयाले अरेबियन
ऑनलाइन नकद टेक्सास होल्डम
10cric ज़ूम
ऑनलाइन कैसीनो ओहने एनेल्डुंग
क्रिकेट इंडिया न्यूजीलैंड
10cric लाइव