बढ़ई द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला पोकर

बढ़ई द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला पोकर

time:2021-10-25 14:32:57 कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें Views:4591

जंगल रम्मी मोबाइल बढ़ई द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला पोकर 188bet प्रधान कार्यालय का पता,casumo साइन अप,lovebet 10 70,प्यार शर्त आसान पैसा,lovebet भविष्यवाणी आज,apk,बी लॉटरी परिणाम,बैकरेट II,बैकारेट-008,क्रिप्टो का उपयोग कर सट्टेबाजी,कैसीनो दिनों की समीक्षा भारत,कैसीनो दिवस ऑनलाइन,कॉमोन ट्रस्टपायलट,क्रिकेट खिलाड़ियों का पतन,एस्पोर्ट्स फ़ॉन्ट,मछली पकड़ने की भीड़ का खेल,फुटबॉल टीम लॉटरी कार्ड,क्रिकेट प्रश्नोत्तरी पर जीके प्रश्न,बकारट रोड को कैसे देखें,आईपीएल xsoul,जंगल रम्मी प्रोमो कोड,लाइव कैसीनो के खेल असली पैसे,लॉटरी ऐप डाउनलोड,लूडो गेम,एनजेड क्रिकेट लाइव,ऑनलाइन जुआ, खाता खोलें और पैसे भेजें,ऑनलाइन पोकर वर्गीच,पैरिमैच साइन अप बोनस,पोकर अब,प्रतिष्ठित ऑनलाइन कैसीनो,नियम सत्यापन,रम्मीकल्चर कॉर्पोरेट ऑफिस,स्लॉट मशीन एकता जीथब,खेल की किताबें हिंदी में,स्पोर्ट्सबुक वेगास स्ट्रिप,टेक्सास होल्डम बनाम ओमाहा,यू21 फुटबॉल,कौन सा बैकारेट सबसे अच्छा ऑनलाइन है,जिंदगी लॉटरी संबाद,ऑनलाइन जुआ vip,क्रिकेट wikipedia,गोवा फेमस फूड,तीन पत्ती डाउनलोड करने के लिए,बकरा वाली कहानी,बैकारेट history,समृद्धि लॉटरी 3D, .कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं.
कार के दाम जल्‍द और बढ़ सकते हैं. इनमें 2-3 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है. कार बनाने वाली कंपनियां इस बारे में विचार कर रही हैं. कच्‍चे माल की लगातार बढ़ती कीमतों और ऑटो पार्ट्स की किल्‍लत के चलते वे इसके लिए मजबूर हैं. अगर ऐसा हुआ तो हाल की कुछ तिमाहियों में यह लगातार तीसरी बार होगा जब गाड़‍ियों के दाम बढ़ेंगे. पिछली बढ़ोतरी के बाद कारें करीब 4-6 फीसदी और टू-व्‍हीलर्स 8-10 फीसदी महंगे हो चुके हैं.

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं. इन्‍हें बनाने में स्‍टील, एलुमिनियम, रबर से लेकर कीमती धातुओं तक का इस्‍तेमाल होता है. पॉलीमर से लेकर रबर तक के भाव 10-60 फीसदी चढ़े हैं. सेमीकंडक्‍टर को लेकर डिमांड और सप्‍लाई में विसंगति के कारण भी इनपुस्‍ट कॉस्‍ट बढ़ी है.

इसे भी पढ़ें : टर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

तीन कंपनियों ने बताया कि चिप मैन्‍यूफैक्‍चरर्स को भारतीय ऑटो ओईएम (ओरिजनल इक्विपमेंट मैन्‍यूफैक्‍चरर्स) से कीमत बढ़ाने के अनुरोध मिलने लगे हैं. सप्लाई की शॉर्टैज और मांग बढ़ने से 2021 में चिप की कीमतें 4-6 फीसदी तक बढ़ सकती हैं. वहीं, सप्‍लाई की किल्‍लत अगले 2-3 तिमाहियों तक बनी रह सकती है.

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं. इन कंपनियों ने पिछले 6 महीनों में दो बार दाम बढ़ाए हैं. आयशर मोटर के स्‍वामित्‍व वाली रॉयल एनफील्‍ड ने भी कीमतों में 3-5 फीसदी बढ़ोतरी का अंदेशा जताया है. जबकि 2021 की शुरुआत में पहले ही यह इतनी बढ़ोतरी कर चुकी है.

इसे भी पढ़ें : फास्‍टैग नहीं लिया है? परेशान न हों, कुछ ही मिनट में गाड़ी में लग जाएगा

क्रेडिट सुईस के अनुसार, यह सही है कि मारुति सुजुकी ने प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले सबसे बाद में दाम बढ़ाने का एलान किया. लेकिन, 18 जनवरी से प्रभावी सभी मॉडलों पर 34,000 रुपये तक की बढ़ोतरी 2.7 फीसदी के बराबर थी. यह पिछले पांच साल में कंपनी की ओर से की गई सर्वाधिक बढ़त है.

महिंद्रा एंड महिंद्रा के ईडी राजेश जेजुरिकर ने आगाह किया था कि अगर इनपुट कॉस्‍ट में नरमी नहीं आई तो वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में मजबूरन दाम बढ़ाने पड़ेंगे. रॉयल एनफील्‍ड के एमडी विनोद दसारी ने कहा कि कंपनी जनवरी में पहले ही दाम बढ़ा चुकी है. अगले वित्‍त वर्ष से दोबारा वह कीमतों में करीब 3-5 फीसदी बढ़ोतरी के बारे में सोच रही है.

सबसे बड़ी समस्‍या स्‍टील की कीमतों में जोरदार तेजी है. पिछले चार महीनों में इसके दाम 36,000 रुपये प्रति टन से उलछकर 58,000 रुपये प्रति टन पर पहुंच गए हैं. वहीं, पेट्रोल-डीजल, हाईवे टोल और टायर के दाम बढ़ने से लॉजिस्टिक्‍स और सप्‍लाई की कॉस्‍ट बढ़ी है.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

कार की कीमतेंबढ़ेंगे दामइनपुट कॉस्‍टकच्‍चा मालऑटो पार्ट्स

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.एक साल पहले इस फंड के अनुभवी मैनेजर ने इस्तीफा दिया. हालांकि, स्‍कीम की बागडोर मजबूत प्रबंधन के हाथों में है. निवेश के तरीके में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है.निसान की कारें होंगी महंगी, जनवरी से 5% तक बढ़ेंगे दाम

साल में कम से कम एक बार निवेश की समीक्षा जरूर करें और उसे दोबारा बैलेंस करें.साल 2020 पूरी तरह के कोरोना वायरस महामारी के नाम रहा. इसकी वजह से न सिर्फ दुनिया में आर्थिक मंदी का खतरा बढ़ गया, मगर कई इंडस्ट्रीज में सुस्ती का माहौल भी छा गया. इसमें ऑटो सेक्टर भी अछूता नहीं रहा.हालांकि, इस साल कई दिग्गज कार कंपनियों ने एक-के-बाद-एक बेहतरीन और शानदार कार और बाइक्स मार्केट में उतारी. सुपरफास्ट इंजन, आकर्षक लुक्स और महंगे दाम वाली कई कार और बाइक ने बाजार को अपना दिवाना बनाया. जानिए इस साल सड़कों पर उतरी कौनसे लग्जरी वाहन:लंबी अवधि में जमा के लिए पोस्ट ऑफिस का रुख कर रहे हैं निवेशक

कंपनी ने बताया है कि कच्चे माल की कीमत बढ़ने से लागत में इजाफा हुआ है. उसकी भरपाई के लिए दाम बढ़ाना जरूरी हो गया है.ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.डॉ रेड्डीज लैब के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
साइटस जूडी १८८बेट

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने शुक्रवार को संकेत दिए कि कमोडिटी के कीमतों में आई तेजी के चलते आने वाले कुछ महीनों में वह अपने वाहनों की कीमत बढ़ा सकती है.

रम्मी 7 ऊपर नीचे

डेट म्‍यूचुअल फंडों की कई कैटेगरी हैं. मनी मार्केट म्‍यूचुअल फंड उनमें से एक है. ये स्‍कीमें उन लोगों के लिए मुफीद होती हैं जो अपने निवेश के साथ बहुत कम जोखिम लेना चाहते हैं. चूंकि ये स्‍कीमें छोटी अवधि के इंस्‍ट्रूमेंट में पैसा लगाती हैं. इसलिए इन पर अर्थव्‍यवस्‍था में ब्‍याज दर में होने वाले बदलाव का ज्‍यादा असर नहीं पड़ता है. मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट के साथ कम जोखिम होने के कारण भी इनमें निवेश अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है. आइए, यहां इनके बारे में कुछ जरूरी बातों को जानते हैं.

बरसात नी वार्ता

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.

स्लॉट मशीन लास वेगास

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

कैसीनो साइटों

फरवरी 2021 में टीकेएम ने 14,075 वाहनों की बिक्री की थी. इस तरह घरेलू बाजार में उसने फरवरी 2020 के मुकाबले 36 फीसदी ग्रोथ दर्ज की थी.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी