बैकारेट कैसे जीतें?

बैकारेट कैसे जीतें?

time:2021-10-21 01:18:46 कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह Views:4591

कैसीनो दा मदीरा बैकारेट कैसे जीतें? 10cric काम नहीं कर रहा,casumo डॉट नेट,लियोवेगैस प्रचार,lovebet बॉक्सिंग,lovebet न्यूकुंडेनबोनस,lovebet कल परिणाम,पांच या सात में से सर्वश्रेष्ठ एएलसी,बैकरेट फेंग गेंग्युन प्ले,बैकारेट ट्रिक,सट्टेबाजी की नौकरी,कैसीनो शराब,कैसीनो आप,क्लासिक रम्मी प्लस ऐप डाउनलोड,क्रिकेट जर्सी डिजाइन पूरा हाथ,ई लॉटरी पोर्टल 2021,यूरोपीय फुटबॉल नियम,फ़ुटबॉल और टीवी होजे,उत्पत्ति कैसीनो समाचार,क्लासिक रम्मी कैसी है,आईपीएल जर्सी 2021,जैकपॉट सनी,लाइव लाठी प्ले मनी,लाइव वीडियो सिस बो,लॉटरी क्रिसमस दिवस,एनबीए विश्लेषण एनबीए,ऑनलाइन कैसीनो यूएसए,टेक्सास में ऑनलाइन पोकर,पैरिमैच फ़ुटबॉल,पोकर h.o.r.s.e,आर/फुटबॉलरणनीति,नियम परिभाषा,रम्मी upi,स्लॉट मशीन कैसे खेलें,स्पोर्ट्स 360 क्रिकेट,स्पोर्ट्सबुक हार्ड रॉक टम्पा,टेक्सास होल्डम चुटकुले,यूरोप में शीर्ष 3 सट्टेबाजी,सबसे विश्वसनीय कैश रूले क्या है,X1 स्लॉट कैसीनो,इलेक्ट्रॉनिक खेल zin,क्या ऑनलाइन बैकारेट पैसा कमा सकता है,गोवा का खाना,ठाणे गोवा,फुटबॉल विकिपीडिया,बेटा या बेटी,लॉटरी टिकट ऑनलाइन 2020,स्पोर्ट्स हुंडई .कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है.
मुंबई : पिछले कुछ महीनों में कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में काम करने वाले वर्कर्स की न्‍यूनतम दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी है. ये रियल एस्‍टेट, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, सीमेंट, स्‍टील, सड़क एवं हाईवे और शहरी विकास परियोजनाओं में काम करते हैं. मजदूरी में बढ़ोतरी की वजह लेबरों की कमी है. कंपनियों ने अपने पुराने प्रोजेक्‍टों को पूरा करने के लिए काम की रफ्तार बढ़ाई है.

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है. इस सेक्‍टर में करीब 5 करोड़ लोग काम करते हैं. मानव संसाधन प्रबंधन फर्म बेटरप्‍लेस के अनुमान के अनुसार, महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

मजदूरों को सबसे ज्‍यादा रोजगार कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मिलता है. यह सेक्‍टर काफी कुछ असंगठित है. ज्‍यादातर वर्कर्स दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते हैं. बेटरप्‍लेस के सीओओ सौरभ टंडन ने कहा कि लेबर की किल्‍लत के चलते कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मजदूरी बढ़ी है. कंपन‍ियां तेजी से अपनी लंबित परियोजनाओं को पूरा करना चाहती हैं.

टॉप एग्‍जीक्‍यूटिव्‍ज के अनुसार, कुशल कामगारों की भारी किल्‍लत है. कारण है कि महामारी के बाद बड़ी संख्‍या में मजदूर अपने-अपने घरों से वापस नहीं लौटे हैं. रियल एस्‍टेट डेवलपर हीरानंदानी ग्रुप के एमडी निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि हम बाहर से कुशल कारीगरों को लाने की कोशिश कर रहे हैं. ये ज्‍यादा मजदूरी की मांग करते हैं. इससे कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में औसत मजदूरी बढ़ी है. कुशल श्रमिकों की कमी सिर्फ रियल एस्‍टेट की समस्‍या नहीं है, बल्कि यह दिक्‍कत हर सेक्‍टर की है. बहुत कम लोगों के पास काम की कुशलता होती है.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍टों के बिल्‍डर केईसी इंटरनेशनल के सीईओ विमल केजरीवाल ने कहा कि फिटर और कारपेंटर जैसे कुशल कामगारों की मजदूरी 10-20 फीसदी बढ़ गई है. काम ज्‍यादा है. लंबित परियोजनाओं को पूरा करने का दबाव है. सभी साइटों पर पूरी क्षमता के साथ काम हो रहा है.

इंडस्‍ट्री के जानकार कहते हैं कि मध्‍यम और छोटे संस्‍थान जिनमें लॉकडाउन की शुरुआत में वर्कर्स को रोक पाने की क्षमता नहीं थी, उन्‍हें लेबरों को मंगाने में ज्‍यादा खर्च करना पड़ रहा है. कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर की बड़ी कंपनियों ने खाने-पीने और रहने की व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध कराकर अपने वर्कर्स को बनाए रखा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

द‍िहाड़ी मजदूरीमजदूरी में इजाफान्‍यूनतम द‍िहाड़ीकंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टरलेबरों की किल्‍लत

ETPrime stories of the day

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?
Agriculture

Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?

7 mins read

एक साल पहले इस फंड के अनुभवी मैनेजर ने इस्तीफा दिया. हालांकि, स्‍कीम की बागडोर मजबूत प्रबंधन के हाथों में है. निवेश के तरीके में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है.नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

अगर आप फुलटाइम घर से काम कर रहे हैं और आपकी कंपनी टेलीफोन, इंटरनेट, प्रिंटिंग और स्‍टेशनरी जैसे कुछ खर्चों को रीइंबर्स कर रही है तो आपको इन खर्चों पर टैक्‍स देने की जरूरत नहीं है.सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.अगले 3-6 महीने में कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच जाएगी कंपनियों की भर्ती : सर्वे

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
क्रिकेट ज्ञान

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

आईपीएल लोगो

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.

रम्मीकल्चर ऐप अपडेट

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.

भारत से ई-स्पोर्ट्स

अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.

वीडियो लॉटरी परिणाम

अगर आप फुलटाइम घर से काम कर रहे हैं और आपकी कंपनी टेलीफोन, इंटरनेट, प्रिंटिंग और स्‍टेशनरी जैसे कुछ खर्चों को रीइंबर्स कर रही है तो आपको इन खर्चों पर टैक्‍स देने की जरूरत नहीं है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी